‘आप’ सरकार को सवाल से परेशानी?

 

gopal-rai_650x400_81449745755

एक आंदोलन से जन्मी आम आदमी पार्टी सबसे ज्यादा इस बात का ढिंढोरा पीटती थी कि वो बाकी राजनीतिक दलों से अलग है। वो कितनी अलग है, ये पहले भी सवालों में आ चुका है, लेकिन अब इस पार्टी को सवाल पूछे जाने से भी समस्या है। हमारे सहयोगी रवीश रंजन शुक्ला ने जब ‘आप’ सरकार के ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर गोपाल राय की प्रेस कॉन्फ्रेंस में सवाल पूछा, तो मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आदेश पर उन्हें और उनके कई पत्रकार मित्रों को उस व्हाट्सएप ग्रुप से अलग कर दिया गया, जो उनके दो मंत्रियों के थे।

घटनाक्रम कुछ ऐसा रहा कि शनिवार को 3 बजे ट्रांसपोर्ट मंत्री गोपाल राय की प्रेस कॉन्फ्रेंस थी, जिसमें ऑड-ईवन को लेकर जानकारी दी जानी थी। उसमें हमारे संवाददाता रवीश रंजन शुक्ला ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट से जुड़े सवाल पूछे। मंत्री गोपाल राय जवाब देने की कोशिश कर ही रहे थे कि वहीं बैठे मीडिया सलाहकार नगेंद्र शर्मा ने बीच में ही तेज आवाज में ‘अगला सवाल’ बोलते हुए बात काट दी। उनका अंदाज़ ऐसा था कि अगला सवाल ना पूछा जा सके।

इसके बाद इस मसले पर रवीश रंजन शुक्ला ने एक ब्लॉग लिखा, जिसे कई सारे पत्रकारों ने शेयर किए। अब इसका नतीजा ये हुआ है कि 6 जर्नलिस्टों को दिल्ली सरकार के दो मंत्रियों – स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और ट्रांसपोर्ट मंत्री गोपाल राय के व्हाट्सएप ग्रुप से बिना कोई कारण बताए बाहर निकाल दिया गया, ये कहते हुए कि ऊपर से आदेश है।